2 कार में आए 6 हमलावर और… खालिस्तानी निज्जर की हत्या का वीडियो आया सामना


खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या को लेकर भारत और कनाडा के बीच तनाव अभी तक बरकरार है. इस बीच इस हत्याकांड का एक कथित वीडियो फुटेज सामने आया है, जिसमें कुछ हथियार बंद लोगों को इस खालिस्तानी अलगाववादी पर गोलियां बरसाते देखा जा सकता है.

निज्जर को वर्ष 2020 में राष्ट्रीय जांच एजेंसी द्वारा आतंकवादी नामित किया गया था. 18 जून, 2023 की शाम को ब्रिटिश कोलंबिया के सरे में एक गुरुद्वारे से बाहर निकलते ही गोली मारकर हत्या कर उनकी दी गई थी.

2 कार में आए 6 हमलावर
कनाडा के समाचार चैनल सीबीसी न्यूज ने यह फुटेज प्रदर्शित करते हुए बताया कि यह वीडियो द फिफ्थ एस्टेट द्वारा प्राप्त किया गया है और एक से अधिक स्रोतों द्वारा स्वतंत्र रूप से सत्यापित किया गया है. इस हमले को ‘बेहद समन्वित’ बताया गया है, जिसे 2 गाडियों से आए 6 लोगों ने अंजाम दिया.

वीडियो में निज्जर को अपने ग्रे डॉज राम पिकअप ट्रक में गुरुद्वारे की पार्किंग से निकलते हुए दिखाया गया है. जैसे ही वह एग्जिट गेट के करीब पहुंचता है, एक सफेद सेडान उसके सामने आकर खड़ी होती है, जिससे उसका ट्रक रुक जाता है. सीबीसी न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, इसके बाद 2 लोग दौड़ते हैं और निज्जर को गोलियों से भूनकर टोयोटा कैमरी से भाग जाते हैं.

ये भी पढ़ें- भारत ने LAC पर उठाया ऐसा कदम, चीन की बढ़ गई टेंशन, दे रहा शांति की दुहाई

सीबीसी के मुताबिक, इस घटना के समय पास के ही एक मैदान में फुटबॉल खेल रहे दो गवाहों ने खुलासा किया कि गोलियों की आवाज सुनकर वह उस जगह की ओर भागे और उन्होंने हमलावरों का पीछा करने की भी कोशिश की. एक गवाह भूपिंदरजीत सिंह सिद्धू ने द फिफ्थ एस्टेट को बताया, ‘हमने उन दो लोगों को भागते हुए देखा. हम उस ओर भागने लगे… जहां से आवाज़ आ रही थी.’

ये भी पढ़ें- ‘अकेले लड़ेंगे चुनाव…’ ओडिशा में बीजेडी से गठबंधन पर कहां अटकी बात, बीजेपी के साथ बैठक में क्या हुआ?

सिद्धू के मुताबिक, वह निज्जर की मदद करने में जुट गया और अपने दोस्त मलकीत सिंह से कहा कि वह पैदल चल रहे दो लोगों का पीछा करे. उसने कहा, ‘वह पूरी तरह से बेहोश था. वह सांस नहीं ले रहा था.’

गुरु नानक सिख गुरुद्वारे के अध्यक्ष की इस टार्गेटेड किलिंग को लेकर कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने आरोप लगाया था कि निज्जर की हत्या में भारत सरकार का हाथ था. ट्रूडो के इस दावे का भारत ने खंडन किया और इसके बाद से दोनों देशों के बीच राजनयिक संबंधों में गिरावट आ गई.

Tags: Canada News, Khalistani terrorist



Source link