गर्मियों में सेहत के लिए वरदान से कम नहीं है सफेद कद्दू का जूस, मिलते हैं ये फायदे


Benefits Of Drinking Of Ash Gourd Juice: सफेद कद्दू एक बहुत ही पौष्टिक सब्जी है. इससे सेहत को कई सारे फायदे मिलते हैं. इसमें मौजूद पोषक तत्व जैसे पोटैशियम, कैल्शियम, विटामिन ए, विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट इसे एक सुपरफूड बनाते हैं. विशेषज्ञों की मानें तो अगर आप सफेद कद्दू का जूस हर रोज पीते हैं तो इससे आपको कई फायदे मिल सकते हैं. तो चलिए जानते हैं इसको पीने से सेहत पर क्या पॉजिटिव असर पड़ता है.

सफेद कद्दू का जूस पीने के फायदे

वजन घटाने में मददगार- सफेद कद्दू में कैलोरी की मात्रा काफी ज्यादा कम होती है और पानी और फाइबर काफी अधिक होता है.इस वजह से आप इसके जूस को पीकर वजन कम कर सकते हैं. इसमें मौजूद फाइबर आपको लंबे समय तक भरा हुआ महसूस कराता है.आप प्रोसेस्ड और जंक फूड या कुछ भी ओवर ईट करने से बचते हैं. ऐसे में यही वजन घटाने में मददगार साबित होता है.

 

बॉडी डिटॉक्स करे- सफेद कद्दू का जूस आपके बॉडी को अच्छे से डिटॉक्स कर सकता है. इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करते हैं. नियमित रूप से सेवन करने से आप बीमार नहीं पड़ते.इससे खून शुद्ध होता है, औऱ नींद के पैटर्न में सुधार होता है.

 

पाचन दुरुस्त रखे- सफेद कद्दू का जूस पीने से डाइजेस्टिव सिस्टम ठीक रहता है. इसमें मौजूद फाइबर पाचन क्रिया को दुरुस्त बनाता है. इसके सेवन से हाथ में अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ावा मिलता है. गैस और एसिडिटी से राहत मिलती है. 

हाइड्रेट रखे- गर्मियों के मौसम में अक्सर शरीर में पानी की कमी हो जाती है. ऐसे में आप कद्दू के जूस का सेवन कर सकते हैं तो आप लंबे वक्त तक हाइड्रेट रह सकते हैं. क्योंकि इसमें पानी की मात्रा बहुत ज्यादा होती है.इसकी तासीर भी ठंडी होती है. गर्मियों के मौसम में शरीर को ठंडा रखने में कद्दू का जूस मदद कर सकता है.

 

इम्यूनिटी बूस्टर- सफेद कद्दू का जूस पीने से आपकी इम्यूनिटी बूस्ट होती है. आप कई तरह की बीमारियों या संक्रमण से सुरक्षित रह सकते हैं.इसमें विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो इम्यूनिटी बूस्टर करने में मददगार है.

 

त्वचा के लिए- जिनकी त्वचा ऑयली और ड्राई होती है, उन्हें सफेद कद्दू का जूस पीना चाहिए. इसमें एंटी एक्ने, एंटी एजिंग प्रॉपर्टी होती है. ये जूस प्राकृतिक एक्सफोलिएटर की तरह काम करता है. त्वचा के नीचे की परत पर पुरानी कोशिकाओं को हटाकर नई कोशिकाओं का निर्माण करता है.

 

 

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें.



Source link