Mahashivratri 2024 : कल शाम इतने बजे से शुरू होगा महाशिवरात्रि पूजन का अत्यंत शुभ मुहूर्त, नोट कर लें टाइमिंग,विधि और सरल उपाय – Times Bull


नई दिल्ली। हिंदू धर्म में भगवान शिव (Mahashivratri 2024 Kab Hai) को सबसे शक्तिशाली देवताओं में से एक माना जाता है। भगवान भोलेनाथ के मंदिर देश के ज्यादातर राज्यों में देखने को मिल जायेंगे।

भगवान शिव के भक्त केवल देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मौजूद हैं। हर साल फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को महाशिवरात्रि का पर्व देशभर में बड़े ही धूम – धाम के साथ मनाया जाता है। इस साल यह पर्व शुक्रवार, 8 मार्च 2024 को मनाया जाएगा।

ऐसी मान्तया है कि महाशिवरात्रि के अवसर पर भगवान शिव को खुश करना थोड़ा आसान होता है। यदि आप सच्चे दिल से महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव जी का व्रत रखकर उनकी पूजा – अर्चना करते हैं, तो आपकी सभी मनोकामएं भी पूर्ण हो जाती हैं।

महाशिवरात्रि का महत्व: (Mahashivratri 2024 Significance) 

हिंदू मान्यताओं के अनुसार, इस दिन भगवान शिव का विवाह हुआ था और उसी दिन वे ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट हुए थे। इसलिए, इस दिन को भगवान शिव के भक्तों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। महाशिवरात्रि पर महादेव और माता पार्वती की विधिवत पूजा-अर्चना करने से आपको मनचाहा फल मिलता है।

महाशिवरात्रि पूजा विधि: (Mahashivratri 2024 Puja Vidhi) 

  • इस दिन प्रातःकाल उठकर स्नान करें और स्वच्छ वस्त्र धारण करें।
  • व्रत का संकल्प लें, उसके बाद घर के पास किसी शिव मंदिर में जाएं।
  • भगवान शिव का पंचामृत और गंगाजल से अभिषेक करें।
  • इसके बाद, भगवान शिव को बेलपत्र, धतूरा, सफेद चंदन, इत्र, जनेऊ, फल और मिठाई अर्पित करें।
  • भगवान शिव को केसर युक्त खीर का भोग लगाएं और प्रसाद ग्रहण करें।

महाशिवरात्रि के शुभ मुहूर्त: (Mahashivratri 2024 Shubh muhurt)

महाशिवरात्रि पूजा चार पहरों में की जाती है. प्रत्येक पहर का अपना शुभ मुहूर्त होता है:

  • प्रथम प्रहर पूजा का समय: 8 मार्च, शाम 6:25 बजे से रात 9:28 बजे तक
  • द्वितीय प्रहर पूजा का समय: 9 मार्च, रात 9:28 बजे से 12:31 बजे तक
  • तृतीय प्रहर पूजा का समय: 9 मार्च, मध्य रात्रि 12:31 बजे से 3:34 AM बजे तक
  • चतुर्थ प्रहर पूजा का समय: 9 मार्च, सुबह 3:34 बजे से 6:37 बजे तक

सरल उपाय:

  • इस दिन आप चाहें तो निर्जला व्रत रख सकते हैं या केवल फल का सेवन कर सकते हैं।
  • पूजा के बाद “ॐ नमः शिवाय” मंत्र का जाप करें।
  • गरीबों और जरूरतमंदों की मदद करें. ऐसा करने से भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है।

महाशिवरात्रि का पर्व धूमधाम से मनाएं और भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त करें!



Source link