महाशिवरात्रि: क्या डायबिटीज और बीपी के मरीज व्रत कर सकते हैं? एक्सपर्ट से समझिए



<div class="flex-1 overflow-hidden">
<div class="react-scroll-to-bottom–css-agqqr-79elbk h-full">
<div class="react-scroll-to-bottom–css-agqqr-1n7m0yu">
<div class="flex flex-col text-sm pb-9">
<div class="w-full text-token-text-primary" data-testid="conversation-turn-73">
<div class="px-4 py-2 justify-center text-base md:gap-6 m-auto">
<div class="flex flex-1 text-base mx-auto gap-3 md:px-5 lg:px-1 xl:px-5 md:max-w-3xl lg:max-w-[40rem] xl:max-w-[48rem] group final-completion">
<div class="relative flex w-full flex-col agent-turn">
<div class="flex-col gap-1 md:gap-3">
<div class="flex flex-grow flex-col max-w-full">
<div class="min-h-[20px] text-message flex flex-col items-start gap-3 whitespace-pre-wrap break-words [.text-message+&amp;]:mt-5 overflow-x-auto" data-message-author-role="assistant" data-message-id="d7b8eaaa-f8ab-4445-9a4d-1bb5ec80b05e">
<div class="markdown prose w-full break-words dark:prose-invert dark">
<p style="text-align: left;"><strong>Mahashivratri 2024 :</strong> महाशिवरात्रि का व्रत हिंदू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण होता है. यह भगवान शिव के प्रति समर्पण और भक्ति का प्रतीक है. इस दिन, भक्त उपवास रखते हैं, शिवलिंग की पूजा करते हैं, और रात भर जागरण करते हैं. व्रत आत्म-शुद्धि, संयम और आध्यात्मिक उन्नति के लिए रखा जाता है.&nbsp; <a title="महाशिवरात्रि" href="https://www.abplive.com/topic/mahashivratri-2023" data-type="interlinkingkeywords">महाशिवरात्रि</a> के अवसर पर व्रत रखना एक पवित्र परंपरा है, लेकिन डायबिटीज और ब्लड प्रेशर जैसी स्वास्थ्य स्थितियों वाले लोगों के मन में अक्सर यह प्रश्न उठता है कि क्या वे भी सुरक्षित रूप से व्रत रख सकते हैं? आइए हम एक्सपर्ट्स से जानेंगे कि डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के मरीजों को व्रत के दौरान किन बातों का ध्यान रखना चाहिए और कैसे वे सुरक्षित रूप से इसे अनुष्ठान को कर सकते हैं.&nbsp;</p>
<p style="text-align: left;"><strong>जानें किन बातों का रखें ध्यान&nbsp;<br /></strong></p>
<ul style="text-align: left;">
<li>&nbsp;स्वास्थ्य परिस्थिति की जांच: व्रत शुरू करने से पहले अपनी स्वास्थ्य स्थिति की जांच करें. अगर आपको हाल ही में कोई स्वास्थ्य समस्या हुई है, तो डॉक्टर से सलाह लेना जरूरी है.</li>
<li>आहार में संतुलन: व्रत के दौरान आहार में संतुलन बनाए रखें. फल, दूध, और नट्स जैसे पोषण से भरपूर आहार शामिल करें.</li>
<li>निर्जलीकरण से बचाव: पर्याप्त मात्रा में पानी पीएं. अगर आप निर्जल हो जाते हैं, तो यह आपके ब्लड प्रेशर और शुगर लेवल पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है.</li>
<li>दवाइयों की निगरानी: व्रत के दौरान अपनी दवाइयों की खुराक और समय पर विशेष ध्यान दें. आवश्यकता पड़ने पर डॉक्टर से दवाई के समय और खुराक में बदलाव के बारे में पूछें.</li>
<li>शारीरिक लक्षणों पर ध्यान दें: व्रत के दौरान अगर चक्कर आना, कमजोरी, थकान या कोई अन्य शारीरिक लक्षण महसूस हो, तो तुरंत ध्यान दें और आवश्यकता पड़ने पर व्रत तोड़ दें.</li>
<li>व्रत के रूल्स में थोड़ा आराम दें. अगर पूरा दिन उपवास करना आपके लिए मुश्किल है, तो कुछ देर के लिए या फल खाकर व्रत रखने का सोचें.</li>
<li>फलों में प्राकृतिक शर्करा होती है जो आपको तुरंत ऊर्जा देती है और दही में प्रोबायोटिक्स होते हैं जो आपके पाचन को सहायता प्रदान करते हैं. इसलिए, व्रत के दौरान ऐसे आहार चुनें जो न केवल आपको पोषण दें बल्कि आपके पेट को भी आराम दें. इस तरह से आप व्रत को आसानी से और स्वास्थ्यपूर्ण तरीके से पूरा कर सकेंगे.&nbsp;</li>
</ul>
<p style="text-align: left;"><strong>Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों और सुझाव पर अमल करने से पहले डॉक्टर या संबंधित एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें.</strong></p>
<p style="text-align: left;"><strong>ये भी पढ़ें-&nbsp;<a href="https://www.abplive.com/lifestyle/home-tips/how-often-should-we-wash-our-curtains-2630709">एक, दो या फिर कुछ और महीने… घर में लगे पर्दे को कब साफ करना चाहिए?</a></strong></p>
<p style="text-align: left;">&nbsp;</p>
<p style="text-align: left;">&nbsp;</p>
<p style="text-align: left;">&nbsp;</p>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>
</div>



Source link