Industry in MP: कोई कर्ज नहीं चुका पाया, तो कहीं कच्‍चे माल की उपलब्धता रही कारण, MP में 20 साल में 29 बड़े उद्योग हुए बंद – Industry in MP 29 big industries closed in Madhya Pradesh in 20 years


Industry in MP: मध्य प्रदेश में बीते 20 सालों में 29 बड़े उद्योग बंद हो गए। जबलपुर ही एकमात्र ऐसा जिला है, जहां कोई उद्योग बंद नहीं हुआ है।

By Sourabh Soni

Publish Date: Fri, 16 Feb 2024 02:49 PM (IST)

Updated Date: Fri, 16 Feb 2024 02:49 PM (IST)

Industry in MP: कोई कर्ज नहीं चुका पाया, तो कहीं कच्‍चे माल की उपलब्धता रही कारण, MP में 20 साल में 29 बड़े उद्योग हुए बंद
मप्र 20 साल में 29 बड़े उद्योग हुए बंद

HighLights

  1. 20 वर्ष में 29 बड़े उद्योग हो गए बंद
  2. जबलपुर में एक भी उद्योग नहीं हुआ बंद
  3. इंदौर में 126 में से 21 उद्योग बंद हुए

Industry in MP भोपाल, राज्य ब्यूरो। मध्य प्रदेश में पिछले 18 वर्ष में 29 बड़े उद्योग बंद हो गए। इनमें से अधिकांश उद्योगों के बंद होने का कारण बैंक ऋण न चुकाना, संपत्तियाें के विक्रय और वित्तीय हानि होेना है। वर्ष 2004 से अब तक मप्र इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कारपोरेशन लिमिटेड अंतर्गत कुल 222 बड़े उद्योग स्थापित हुए, लेकिन इनमें से 29 बड़े उद्योग बंद भी हो गए। इस अवधि में कारपोरेशन के क्षेत्रीय कार्यालय भोपाल अंतर्गत 55 बड़े उद्योग स्थापित हुए और बाद में इनमें से दो बंद हो गए, जबकि ग्वालियर क्षेत्र में 13 उद्योगों में से तीन बंद हो गए।

इंदौर क्षेत्र में 126 उद्योगों में से 21 बंद हो गए। केवल जबलपुर क्षेत्र की स्थिति अच्छी रही जिसमें 19 उद्योग स्थापित हुए और एक भी बंद नहीं हुआ। वहीं रीवा क्षेत्र में नौ में से तीन उद्योग बंद हो गए।

बैंक ऋण नहीं चुकाने और वित्तीय हानि के चलते बंद हुए उद्योग

औद्योगिक निवेश एवं प्रोत्साहन विभाग से मिली अधिकृत जानकारी के अनुसार, रायसेन जिले में हैवी फेब्रिकेशन निर्माता कंपनी मेसर्स जीईआइ पावर लिमिटेड और राइस प्रोसेसिंग वाली कंपनी मेसर्स एसएसए इंटरनेशनल, ऋण की अदायगी न करने के कारण बैंक द्वारा अधिग्रहित की गई। भिंड जिले में ग्लास पार्ट केथोड रे ट्यूब तथा गैस प्लांट थर्मल पावर प्लांट वाली कंपनी मेसर्स लिमिहाटलाईन ग्ला., की दो मिलें बंद हो गई तथा इसी जिले में कलर्ड पिक्चर ट्यूब बनाने वाली मेसर्स एलजी हाटलाईन सीपीटी लिमिटेड, एनएसीएलटी द्वारा परिसंपत्तियों का विक्रय करने से बंद हुई।

वित्तीय कुप्रबंधन के चलते ये कंपनियां हो गई बंद

धार जिले में इंडोरामा टेक्सटाइल लिमिटेड, दिव्य ज्योति, मित्तल कॉर्प लिमिटेड, लक्ष्मी पाईप एंड फिटिंग, मेटल मेन पाइप मेन्युफ्रेक्चरिंग, परसरामपुरिया इंटरनेशनल लिमिटेड, भानु आयरन एंड स्टील कंपनी, सोनी इस्पात लिमिटेड, वेरटेक्स टेक्नोसाफ्ट, वरुण सीमेंट प्रालि, पाली लॉजिक इंडिया लिमिटेड, गिल्टपेक यूनिट-2, खरगोन जिले में पेरेंटल ड्रग्स प्रालि, शाजापुर जिले में सिद्धार्थ ट्यूब्स प्रालि वित्तीय कुप्रबंधन के कारण बंद हुई।

धार जिले में सोनी इस्पात लिमिटेड प्रबंधकीय अक्षमता एवं गिरनार फाइबर लिमिटेड ऋण भुगतान न करने, नियो कार्य इंटरनेशनल लिमिटेड कच्चा माल संबंधी समस्या के कारण, सकोज इंडिगो प्रालि एवं एडवांस सर्फेक्टेड इंडिया लिमिटेड विपणन संबंधी समस्या के कारण बंद हुई।

आर्थिक मंदी के चलते बंद हो गई स्टील ट्यूब आफ इंडिया लिमिटेड

इंदौर जिले में स्टील ट्यूब आफ इंडिया लिमिटेड आर्थिक मंदी के कारण बंद हो गई। झाबुआ में निभि इंडस्ट्रीज कच्चे माल की उपलब्धता एवं विपणन संबंधी समस्या के कारण बंद हुई। देवास जिले में देवास सोया लिमिटेड वित्तीय हानि होने के कारण बंद हुई।

सतना जिले में मेसर्स भिलाई जेपी सीमेंट एवं स्पाज आयरन एमएस ब्लेड निर्माता कंपनी मेसर्स कमल स्पाज स्टील एंड पावर लिमि और रीवा जिले में सोयाबीन एवं सरसो का तेल बनाने वाली कंपनी मेसर्स जेपी रीवा सोया प्रोसेसिंग यूनिट बंद हो गई।

  • ABOUT THE AUTHOR
    28 9 2023 1482159 bharat

    भरत मानधन्‍या ने इंदौर स्थित चोइथराम कॉलेज ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज में BAJMC में स्नातक की पढ़ाई की है और स्‍कूल ऑफ इकोनॉमिक्‍स (देवी अहिल्‍या विश्‍वविद्यालय) से MA Economics की उपाधि प्राप्‍त की है।

    पत्रकारिता क …



Source link