IAS Success Story: विदेश की नौकरी छोड़ने के बाद शादी के 9वें दिन IAS बने थे गौरव अग्रवाल


IAS Success Story: गौरव अग्रवाल मूलरूप से पिंक सिटी कहे जाने वाले जयपुर शहर के रहने वाले हैं। उन्होंने IIT और IIM से पढ़ाई करने के बाद विदेश में इंवेस्टमेंट बैंकर के रूप में नौकरी की। इसके बाद विदेश की नौकरी छोड़कर भारत आकर सिविल सेवाओं की तैयारी की। पहले प्रयास में वह आईपीएस बनने में सफल रहे। इसके बाद आईएएस बनकर सफलता प्राप्त की।

Kishan Kumar
आईएएस गौरव अग्रवाल

आईएएस गौरव अग्रवाल

IAS Success Story: देश की सबसे प्रतिष्ठित सेवा यानि सिविल सेवा, जो कि एक ऐसी सेवा है, जिसके लिए हर साल लाखों युवा तैयारी करते हैं। हालांकि, सफलता केवल उनके हिस्से में आती है, जो इस परीक्षा की गंभीरता से तैयारी करता है। यही वजह है कि दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में सबसे बड़ी सरकारी नौकरी पाने के लिए हर लाखों युवा आवेदन करते हैं और अंत में यह आंकड़ा सिर्फ सैकड़ों में रह जाता है। सफलता और असफलता के इस सफर में हमें विभिन्न प्रकार की कहानियां सुनने को मिलती हैं, जो अभ्यर्थियों के संघर्ष को हम तक पहुंचाती हैं। इस कड़ी में आज हम आपको पिंक सिटी यानि जयपुर के रहने वाले गौरव अग्रवाल की कहानी बताने जा रहे हैं, जिन्होंने  IIT और IIM से पढ़ाई करने के बाद विदेश में इंवेस्टमेंट बैंकर के रूप में नौकरी शुरू की। इसके बाद नौकरी छोड़कर भारत लौटे और सिविल सेवाओं की तैयारी शुरू कर दी। अपने पहले प्रयास में ही वह आईपीएस बनने में सफल रहे और इसके बाद उन्होंने अपनी शादी के 9वें दिन आईएएस बनकर सफलता प्राप्त की। 

Career Counseling

 

गौरव अग्रवाल का परिचय

गौरव अग्रवाल मूलरूप से जयपुर के रहने वाले हैं। उन्होंने साइंस विषयों से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा पास की और इसके बाद IIT Kanpur में दाखिला लिया। यहां से उन्होंने इंजीनियरिंग करने के बाद मैनेजमेंट की तैयारी की। 

 

upsc success story

कैट परीक्षा पास कर IIM में लिया दाखिला 

गौरव ने कैट परीक्षाओं की तैयारी की और इसमें उन्होंने 99 पर्सेंटाइल स्कोर किया, जिसके बाद उन्हें IIM में दाखिला मिल गया। यहां से उन्होंने मैनेजमेंट में पीजी किया। 

 

विदेश में लगी नौकरी

मैनेजमेंट की पढ़ाई करने के बाद गौरव की विदेश में इंवेस्टमेंट बैंकर के रूप में नौकरी लग गई थी। उन्होंने कुछ समय तक विदेश में काम किया, लेकिन उनका वहां उनका मन नहीं लगा। गौरव ने भारत लौटकर सिविल सेवाओं में जाने का निर्णय ले लिया था। 

 

पहले प्रयास में बने IPS 

गौरव कुमार ने भारत लौटकर सिविल सेवाओं की तैयारी शुरू कर दी थी। इसके बाद उन्होंने सिविल सेवाओं में अपना पहला प्रयास किया और अपने पहले प्रयास में ही वह आईपीएस बनने में सफल रहे। उन्होंने पुलिस अधिकारी बनने के लिए ट्रेनिंग भी शुरू कर दी थी। हालांकि, वह इस नौकरी से संतुष्ट नहीं थे। 

 

gaurav aggarwal ias

शादी के 9वें दिन बने IAS

गौरव अपने पहले प्रयास से संतुष्ट नहीं थे। ऐसे में उन्होंने दूसरा प्रयास किया। इस दौरान उनकी शादी भी हो गई थी। वहीं, शादी के 9वें दिन सिविल सेवाओं का परिणाम जारी हुआ, जिसमें वह परीक्षा को टॉप करने के साथ आईएएस अधिकारी बन गए। 

 

पढ़ेंः IAS Success Story: कभी अंग्रेजी बोलने से लगता था डर, UPSC सिविल सेवाओं में 69वीं रैंक के साथ IAS बने अभिषेक शर्मा



Source link