मोइज्जू की जिद के चलते चली गई बच्चे की जान? ब्रेन स्ट्रोक आने पर करना था एयरलिफ्ट


हाइलाइट्स

मालदीव के राष्ट्रपति ने भारत द्वारा दिए गए एयर एंबुलेंस को उड़ान के लिए नहीं दी स्वीकृति.
बच्चे के परिजनों ने एयरलिफ्ट के लिए किया ता अनुरोध.

मालेः भारत-मालदीव के बीच चल रहे तनाव के बीच राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू पर गंभीर आरोप लगाया गया है. मालदीव मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, शनिवार को मालदीव में एक 14 वर्षीय लड़के की कथित तौर पर मौत हो गई, क्योंकि राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू ने उसे एयरलिफ्ट के लिए भारत द्वारा दिए गए डोर्नियर विमान का उपयोग करने की मंजूरी देने से इनकार कर दिया था.

नाबालिग को ब्रेन ट्यूमर था और अचानक से उसे स्ट्रोक आ गया, जिसके चलते उसकी हालत गंभीर हो गई. लड़के के परिजनों ने उसकी हालत खराब होने पर उसे गैफ अलिफ़ विलिंगिली स्थित उसके घर से राजधानी शहर माले ले जाने के लिए एयर एम्बुलेंस का अनुरोध किया था. मालदीव मीडिया के अनुसार, अधिकारियों ने तुरंत चिकित्सा निकासी की व्यवस्था करने के लिए आवेदन किया था.

मालदीव मीडिया ने लड़के के पिता के हवाले से कहा, ‘हमने स्ट्रोक के तुरंत बाद उसे माले ले जाने के लिए आइलैंड एविएशन को फोन किया लेकिन उन्होंने हमारी कॉल का जवाब नहीं दिया. उन्होंने गुरुवार सुबह 8:30 बजे फोन का जवाब दिया. ऐसे मामलों के लिए समाधान एक एयर एम्बुलेंस है.’ आपातकालीन निकासी अनुरोध के 16 घंटे बाद लड़के को माले लाया गया. इस बीच, आपातकालीन निकासी अनुरोध प्राप्त करने वाली आसंधा कंपनी लिमिटेड ने एक बयान में कहा कि उन्होंने अनुरोध के तुरंत बाद निकासी की प्रक्रिया शुरू कर दी, लेकिन “दुर्भाग्य से, आखिरी समय में उड़ान में तकनीकी समस्या के कारण डायवर्जन नहीं किया गया.

मालदीव के राष्ट्रपति की जिद ने ले ली बच्चे की जान! ब्रेन स्ट्रोक आने पर करना था एयरलिफ्ट, भारतीय विमान को नहीं दी इजाजत

यह घटनाक्रम ऐसे समय में आया है जब मालदीव के मंत्रियों द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति की गई अपमानजनक टिप्पणियों के बाद हाल ही में भारत और द्वीपसमूह राष्ट्र के बीच राजनयिक संबंध खराब हो गए हैं. लड़के की मौत पर टिप्पणी करते हुए मालदीव के सांसद मीकैल नसीम ने कहा, ‘भारत के प्रति राष्ट्रपति की दुश्मनी को संतुष्ट करने के लिए लोगों को अपनी जान देकर इसकी कीमत नहीं चुकानी चाहिए.’

Tags: Maldives, World news



Source link