PS2 के गाने वीरा-वीरा को लेकर विवाद, ध्रुपद सिंगर ने लगाया कंपोजिशन चुराने का आरोप


ऐप पर पढ़ें

फिल्म Ponniyin Selvan 2 का गाना ‘वीरा-वीरा’ रिलीज के चंद दिनों के भीतर ही विवादों में आ गया है। दिल्ली के रहने वाले ध्रुपद सिंगर उस्ताद वसीफुद्दीन डागर ने आरोप लगाया है कि फिल्म के सॉन्ग ‘वीरा वीरा’ की धुन बिलकुल वैसी है जैसी उनके पिता द्वारा शिव स्तुति गाई गई है। ए आर रहमान ने ‘वीरा वीरा’ सॉन्ग को कंपोज किया है और इसे गाया है शंकर महादेवन, केएस चित्रा और हरिनी ने। चलिए जानते हैं क्या है पूरा मामला और इस गाने पर विवाद की मूल वजह क्या है।

गाने को लेकर क्या है वसीफुद्दीन का आरोप

उस्ताद वसीफुद्दीन ने आरोप लगाते हुए कहा, “इसे बिलकुल उसी तरह उठाया गया है जैसे मेरे पिता और चाचा ने शिव स्तुति गाई थी।” वसीफुद्दीन के मुताबिक शिव स्तुति पहली बार 1978 में हॉलैंड फेस्टिवल के पार्ट के तौर पर रिकॉर्ड की गई थी। तब हॉलैंड फेस्टिवल में जूनियर डागर ब्रदर्स एम्स्टर्डम में रॉयल ट्रॉपिकल इंस्टीट्यूट में एक लाइव कॉन्सर्ट में थे। रिकॉर्डिंग 1978 में मैग्नेटिक टेप ऑडियो रिकॉर्डिंग की गई थी और 1996 में रॉयल ट्रॉपिकल इंस्टीट्यूट द्वारा दो सीडी के सेट के रूप में फिर से जारी की गई थी।

काश उन्होंने इजाजत ली होती, मैं मना नहीं करता

वसीफुद्दीन ने कहा, “काश मद्रास टॉकीज और मिस्टर रहमान ने मेरे परिवार से इजाजत ली होती। मैं कभी भी उन्हें ना नहीं कहता। लेकिन अपने आर्थिक फायदे के लिए इस तरह की चीजें करना बहुत गलत है। इस कंपोजिशन को बिलकुल तांडव वाले अंदाज में उठाया और गाया गया है। फर्क सिर्फ हिस्सों के अरेंजमेंट का है।” वसीफुद्दीन ने इस बारे में ए आर रहमान को एक लेटर भी लिखा है।

वसीफुद्दीन के दावे पर मणि रत्नम का जवाब

वहीं इस पूरे मामले पर मद्रास टॉकीज और मणि रत्नम ने किसी भी तरह के कॉपीराइट क्लेम से इनकार किया है। मद्रास टॉकीज ने एक लेटर भेजा है जिसमें ‘वीरा वीरा’ को किसी भी तरह से डागर ब्रदर्स की क्रिएशन की नकल होने की बात से इनकार किया गया है और आरोप लगाया है कि वसीफुद्दीन का कॉपीराइट को लेकर किया गया दावा ‘गलत’ है। लेटर में हिंट दिया गया है कि वसीफुद्दीन की मंशा ‘फंसाने की है’ और यह सब फायदा कमाने और पब्लिसिटी पाने के लिए किया जा रहा है।



Source link