बिगड़ैल राजकुमार… कौन हैं प्रिंस फ्रेडरिक? संभालेंगे इस देश का सिंहासन


हाइलाइट्स

डेनमार्क में रानी ने राजगद्दी छोड़ने का ऐलान किया है.
अब उनके बेटे क्राउन प्रिंस फ्रेडरिक डेनमार्क के सिंहासन पर बैठेंगे.

नई दिल्ली: डेनमार्क की महारानी मार्गरेट- II ने आगामी 14 जनवरी को राजगद्दी छोड़ने फैसला किया है. उन्होंने इसकी घोषणा नए साल की पूर्वसंध्या पर रविवार को की. अब उनके बेटे भावी राजा क्राउन प्रिंस फ्रेडरिक देश की सत्ता संभालेंगे. उन्होंने साल 2022 में एक भाषण में कह दिया था कि ‘जब समय आएगा, मैं जहाज का मार्गदर्शन करूंगा.’

न्यूज एजेंसी AFP के अनुसार प्रिंस फ्रेडरिक ने उस दौरान अपनी मां की ओर इशारा करते हुए कहा था कि ‘मैं आपका अनुसरण करूंगा, जैसे आपने अपने पिता का अनुसरण किया था.’ लेकिन उस समय यह किसी को मालूम नहीं था कि यह समय जल्द आने वाला है.

पढ़ें- PHOTOS: नए साल का दुनिया भर में जोरदार स्वागत, जश्न में डूबे लोग, हार्बर ब्रिज से लेकर बुर्ज खलीफा तक खूब हुई आतिशबाजी

डेनिश शाही परिवार के विशेषज्ञ गिटे रेडर ने कहा कि ‘वह वास्तव में उस समय विद्रोह नहीं कह रहे थे, लेकिन एक बच्चे और युवा व्यक्ति के रूप में, वह मीडिया के ध्यान और इस ज्ञान से बहुत असहज थे कि वह राजा बनने जा रहे हैं. उन्हें 20 साल की उम्र के मध्य में ही आत्मविश्वास हासिल हुआ.’

अकेला और परेशान
एक अकेला और परेशान किशोर, फ्रेडरिक अपने शाही दायित्वों को पूरा करने के दौरान उसकी उपेक्षा करने के लिए अपने माता-पिता से नाराज थे. वह तेज कारों और तेज जीवनशैली में आराम तलाशते थे. इसके साथ ही 1990 के दशक की शुरुआत में उन्हें पार्टी का एक बिगड़ैल राजकुमार माना जाता था. लेकिन 1995 में आरहस विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बाद यह दृष्टिकोण बदलना शुरू हुआ, वह विश्वविद्यालय की शिक्षा पूरी करने वाले पहले डेनिश शाही व्यक्ति थे.

बिगड़ैल राजकुमार, विद्रोही स्वभाव... कौन हैं क्राउन प्रिंस फ्रेडरिक? मां की जगह संभालेंगे इस देश का सिंहासन

शाही विशेषज्ञ रेडर ने आगे बताया कि ‘वह एक खिलाड़ी हैं, वह संगीत कार्यक्रमों और फुटबॉल मैचों में भाग लेता हैं, जो उसे अपनी मां से भी अधिक सुलभ बनाता हैं.’ फ्रेडरिक ने एक बार जोर देकर कहा था कि वह सिंहासन लेने के बाद भी उसी पर कायम रहेंगे. उन्होने कहा था कि ‘मैं खुद को किसी किले में बंद नहीं करना चाहता. मैं खुद एक इंसान बनना चाहता हूं.’ 2000 ओलंपिक खेलों के दौरान उनकी मुलाकात सिडनी बार में अपनी ऑस्ट्रेलियाई वकील पत्नी मैरी डोनाल्डसन से हुई.

Tags: Denmark, World news



Source link