कब पीछा छोड़ेगा हिंडनबर्ग का भूत, अडानी के हाथ से फिसल रही 400 करोड़ की ये डील


नई दिल्ली:अमेरिकी शॉर्ट सेलर फर्म हिंडनबर्ग (Hindenburg) के रिपोर्ट के बाद से अडानी समूह (Adani Group)की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। इस रिपोर्ट के आने के बाद से अडानी समूह के हाथों से एक के बाद एक डील निकल रही है। एविएशन सेक्टर में पैर पसारने के बाद अब अडानी मेंटिनेंस, रिपेयर और ओवरहॉल (MRO) के बिजनेस में उतरने की तैयारी कर रहे हैं। पिछले साल ही उन्होंने इसके लिए एयर वर्क्स (Air Works) के अधिग्रहण का प्लान बनाया था,लेकिन हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने के बाद से ये डील अटक रही है।

फिर से अटकी डील

फिर से अटकी डील

अडानी समूह ने बीते साल एयर वर्क्स (Air Works) कंपनी के अधिग्रहण की तैयारी कर ली। इसके लिए कंपनी के साथ सारी शर्तें तय हो गई, लेकिन अब फिर से एक बार 400 करोड़ की ये डील अटक गई है। एयर वर्क्स की एक बड़ी शेयरहोल्डिंग कंपनी पुंज लॉयड ग्रुप (Punj Lloyd Group) दिवालिया होने के कगार पर पहुंच गई है, जिसके कारण इस डील में देरी हो रही है।

​अचकी 400 करोड़ की डील​

-400-

एयर वर्क्स को खरीदने के लिए अडानी ने एमओयू भी साइन कर लिया, लेकिन इसकी डेडलाइन दो बार निकल चुकी है। दोनों कंपनियों के बीच बीते साल 400 करोड़ रुपये में की डील हुई थी,लेकिन अब पुंज लॉयड ग्रुप के चलते इसमें देरी हो रही है। इस डील की आखिरी डेडलाइन जनवरी-मार्च 2023 में खत्म हो चुकी है। इस अधिग्रहण में लगातार हो रही देरी के कारण बात बिगड़ सकती गै।

​कर्ज कम करने पर फोकस​

​कर्ज कम करने पर फोकस​

गौरतलब है कि हिंडनबर्ग के खुलासे के बाद अडानी समूह का फोकस कारोबार का विस्तार करने से ज्यादा कर्ज चुकाने पर है। फिलहाल कंपनी ने विस्तार योजनाओं पर ब्रेक लगा दिया है और उसका पूरा फोकस कर्ज कम करने पर है। इससे पहले भी कंपनी के हाथों से कई बड़ी डील निकल चुकी है।



Source link