Shaitaan Movie Review: आर माधवन की परफॉर्मेंस से लगेगा डर, लेकिन फीका पड़ा अजय देवगन का दम, जानें कैसी है शैतान फिल्म


फिल्म: शैतान

स्टार कास्ट: अजय देवगन, आर माधवन, ज्योतिका, जानकी बोड़ीवाला

डायरेक्टर: विकास बहल

फिल्म की कहानी होती है कि एक परिवार से जो फार्महाउस में चिल कर रहा होता है, तभी वहां एक बिन बुलाया मेहमान(आर माधवन) आ जाता है जो कबीर(अजय देवगन) की बेटी का वशीकरण कर लेता है। ऐसा हमने कई बार फिल्मों में देखा है। अब वो मेहमान, कबीर और उनकी लाइफ में क्या तूफान लेकर आता है यह आपको फिल्म देखकर पता चलेगा।

रिव्यू

अजय देवगन अभिनीत कई फिल्मों में क्रूरता, यातना और युवा महिलाओं की यौन असुरक्षा दिखती है। फिल्म में सभी बहुत पिटते हैं। यहां तक की विलेन को भी बहुत पीटा जाता है। आप इस फालतू की लड़ाई को नहीं देखने के लिए आंख भी बंद कर देंगे तो फिल्म का वॉल्यूम इतना है कि आपको मार-पीट की आवाज जरूर सुनाई देगी। कुछ सीन तो ना सिर्फ फालतू लगते हैं बल्कि पुराने जमाने के भी लगते हैं जैसे फिल्म में यंग महिला पर फोकस रखना, खासकर जाह्नवी क्योंकि उन्हें ज्यादा स्क्रीन टाइम मिला है।

एक सीन जो आपको चौंका देता है वो ये कि जब कबीर और ज्योति(ज्योतिका) पैसे रखते हैं वनराज के सामने। वनराज वहीं बैग के सामने खड़ा होता है जिसमें वह आग लगा देता है। यह सीन सच में काफी डरावना है, लेकिन जैसे ही वह बोलता है कि तुम्हें लगा तुम मुझे पैसों से खरीद लोगे? यहां राइटर आमिल कियान खान की राइटिंग कमजोर पड़ती दिखी। वहीं इसके बाद जब वनराज अपना प्लान बताता है कि वह उसकी बेटी के जरिए बड़ा कांड करने वाला है तो ऐसा हमने कई पुरानी फिल्मों में देखा है।

फिल्म को देखकर जो रोंगटे खड़े हुए वो इसलिए नहीं कि फिल्म का सीन ऐसा आया, यह तो ऑर्गेनिकली ही डरावना है। इन्होंने एक ऐसा प्रोडक्ट बनाया है जो सिचुएशन रिस्पॉन्स टेम्पलेट से बनता है और साइकॉलोजिकल थ्रिलर के साथ ट्विस्ट होकर फिर होस्टेज ड्रामा दिखाता है। साइकोलॉजिकल थ्रिलर, सुपरनेचुरल और ड्रामा की वजह से फिल्म ज्यादा इंट्रेस्टिंग नहीं रह पाती।

परफॉर्मेंसेस

ज्योतिका ने जाह्नवी की मां का किरदार बखूबी निभाया। अजय ने उस पिता का किरदार निभाया है जो अपने परिवार के लिए कुछ भी कर सकता है, किसी को मार भी सकता है। जैसा कि हम दृश्यम फिल्म में देख चुके हैं। तो आपको उनकी परफॉर्मेंस वैसी ही लगेगी जैसी दृश्यम में विजय सलगांवकर की थी। आर माधवन ने पूरी लाइमलाइट अपने नाम की है।

बड़े पर्दे की फिल्म के लिए यह अभी भी एक मुश्किल दौर है और शैतान को उम्मीद है कि वह इसके पक्ष में काम करेगा, यह शॉकिंग वैल्यू है। हल्के-फुल्के एंटरटेनिंग आर माधवन के साथ हल्का-सा परेशान करने वाला बंधक नाटक आपके लिए बहुत है, तो इसे देखने जाएं।



Source link