Met Gala 2023: मेट गाला क्या है क्यों हसीनाएं पहनती हैं अजीबोगरीब कपड़े जाने सबकुछ


Met Gala 2023: मेट गाला 2023 फैशन शो का समापन हो गया है। हर साल सेलेब्रिटीज के इवेंट में शामिल होने की फोटोज वायरल होने लगती है। अजीबोगरीब परिधानों और फैशन से परे मेट गाला आखिर क्या है। मशहूर हस्तियां इसमें क्यों शामिल होती हैं। कार्यक्रम के लिए भुगतान कौन करता है। पैसा कहां से आता है। ऐसे सवालों के जवाब आज आपको बताने जा रहे हैं।

सबसे पहले जानिए मेट गाला क्या है?

Met Gala न्यूयॉर्क शहर में मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट कॉस्ट्यूम इंस्टीट्यूट द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम है। यह हर साल मई के पहले सोमवार को आयोजित किया जाता है। इस कार्यक्रम से जुटाई गई राशि का इस्तेमाल कॉस्ट्यूम इंस्टीट्यूट के लिए किया जाता है।

metgalapriyankalia

कैसे सेलेक्ट होते हैं मेहमान?

इस समारोह में केवल आमंत्रित गेस्ट को शामिल होने की अनुमित होती है। इस इवेंट में दुनिया भर की चुनिंदा सेलेब्रिटीज शिरकत करती हैं। आने वाले हस्तियों को एक निर्धारित टॉपिक के अनुसार तैयार होना होता है। गेस्ट्स का चयन वोग एडिटर एना विंटोर और उनकी टीम करती है। कार्यक्रम में उन लोगों को भी बुलाया जाता है, जो डोनेशन दे सकते हैं। वहीं, उन सेलेब्स को नहीं बुलाया जाता है। जिनका नाम स्कैंडल से जुड़ा होता है।

मेट गाला 2023 की थीम

इस साल मेट गाला में 400 लोगों को इनवाइट किया गया था। ड्रेस के लिए थीम ‘कार्ल लेगरफेल्ड: ए लाइन ऑफ ब्यूटी’ थी। इस थीम का नाम फैशन डिजाइनर लेगरफेल्ड के नाम पर रखा गया है। उन्होंने चैनल और फेंडी जैसे ब्रांड के साथ काम किया है।

kardashianjennersmeta

कॉस्ट्यूम इंस्टीट्यूट क्या है?

मेटम्यूजियम वेबसाइट के अनुसार, कॉस्ट्यूम इंस्टीट्यूट पुरुषों, महिलाओं और बच्चों के परिधानों से संबंधित करीब 33 हजार कपड़े हैं, जो 15वीं शताब्दी के हैं। इस म्यूजियम की शुरुआत 1937 में कॉस्ट्यूम आर्ट के तौर पर की गई थी। 1946 में म्यूजियम ऑफ कॉस्ट्यूम आर्ट का द मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट में विलय हो गया था।

कैसे जुटाया जाता है फंड?

Met Gala में हर साल कई स्पॉन्सर होते हैं। चैनल इस साल का मुख्य स्पॉन्सर है। फेंडी, कोंडे नास्ट और लेगरफोल्ड सह-प्रायोजक है। टिकट और टेबल की बिक्री के जरिए भी फंड जुटाया जाता है। न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, इस साल एक टिकट की कीमत 50 हजार डॉलर (करीब 40 लाख 88 हजार) है। एक टेबल की कीमत तीन लाख डॉलर से शुरू होती है। पिछले साल मेट गाला के जरिए 17.4 करोड़ डॉलर जुटाए गए थे।

metagalafashion

आखिर क्यों इतना प्रभावशाली है मेट गाला?

मेट गाला को जितनी शोहरत मिस रही है। उतनी पहले नहीं मिली थी। 1948 में फैशन प्रमोटर एलेनोर लैम्बर्ट ने न्यूयॉर्क शहर में मेट्रोपॉलिटन म्यूजियम ऑफ आर्ट कॉस्ट्यूम इंस्टीट्यूट खोला था। 1972 में उन्होंने फैशन स्तंभकार डायना वेरेलेंड को सलाहकार के रूप में नियुक्त किया था। डायना ने न्यूयॉर्क से मशहूर हस्तियों को आमंत्रित करने और थीम तैयार करने का बीड़ा उठाया। देखते ही देखते यह दुनिया का सबसे बड़ा फैशन इवेंट बन गया।

मेट गाला में अब तक भारत से कौन-कौन गया है?

भारत से Met Gala इवेंट में प्रियंका चोपड़ा, दीपिका पादुकोण, सोनम कपूर और कंगना रनोट जा चुकी हैं। इस साल आलिया भट्ट ने शिरकत की है। मेट गाला में स्मार्टफोन प्रतिबंधित रहता हैं।

Posted By: Kushagra Valuskar

मनोरंजन
मनोरंजन



Source link