Pranjal Patil भारत की पहली दृष्टिबाधित महिला IAS,जिन्‍होंने बिना कोचिंग के क्रैक की UPSC परीक्षा


 बिना किसी कोचिंग के क्रैक की यूपीएससी परीक्षा

बिना
किसी
कोचिंग
के
क्रैक
की
यूपीएससी
परीक्षा

ताज्‍जुब
की
बात
ये
है
कि
देश
की
पहली
दृष्टिबाधित
महिला
आईएएस
अधिकारी
प्रांजल
पाटिल
ने
संघ
लोक
सेवा
आयोग
(यूपीएससी)
सिविल
सेवा
परीक्षा
को
बिना
किसी
कोचिंग
के
क्रैक
किया
है
उन्‍होंने
किसी
कोचिंग
के
बिना
वो
परीक्षा
पास
की
है
जिसमें
वर्षों
की
कड़ी
मेहनत
और
परिश्रम
लगता
है।
दृढ़ता
और
धैर्य
के
साथ
पॉजिटिव
रहते
हुए
उन्‍होंने
कभी
भी
हार
नहीं
मानी
और
बिना
कोचिंग
के
यूपीएससी
पास
कर
साबित
कर
दिया
कोशिश
करने
वालों
की
कभी
हार
नहीं
होती।

प्राजंल ने कभी हार नहीं मानी और पाई कामयाबी

प्राजंल
ने
कभी
हार
नहीं
मानी
और
पाई
कामयाबी

महाराष्ट्र
के
उल्हासनगर
से
ताल्लुक
रखने
वाली
प्रांजल
का
जब
जन्‍म
हुआ
तो
उनकी
आंख
की
रोशनी
कमजोर
थी
और
6
साल
की
उम्र
तक
आते-
आते
उनकी
दोनों
आंखों
की
रोशनी
चली
गई।आंखों
की
रोशनी
जाने
के
बावजूद
प्राजंल
ने
कभी
हार
नहीं
मानी
और
सभी
कठिनाइयों
से
ऊपर
उठकर
भारत
की
पहली
नेत्रहीन
महिला
आईएएस
अधिकारी
बनीं।

प्रांजल ने दूसरे अटेम्‍ट की परीक्षा कर दिया कमाल

प्रांजल
ने
दूसरे
अटेम्‍ट
की
परीक्षा
कर
दिया
कमाल

प्रांजल
की
ये
सफलता
लोगों
के
लिए
प्रेरणादायी
है
कि
कैसे
प्रतिकूल
परिस्थितियों
में
भी
सफलता
हासिल
की
जा
सकती
है।
प्रांजल
को
ये
सफलता
एक
बार
के
प्रयास
में
नहीं
मिली।
प्रांजल
ने
दो
बार
यूपीएससी
की
परीक्षा
दी
-पहली
बार
2016
में
और
2017
में।
2016
में
उनकी
रैंक
744
थी,
लेकिन
अपने
दूसरे
प्रयास
में
उन्होंने
124वां
रैंक
हासिल
की।

2019 में पहली पोस्टिंग में बनी सब कलेेक्‍टर

2019
में
पहली
पोस्टिंग
में
बनी
सब
कलेेक्‍टर

प्रांजल
ने
मुंबई
के
कमला
मेहता
दादर
स्कूल
फॉर
ब्लाइंड
से
स्‍कूलिंग
की
और
पॉलटिकल
साइंस
में
सेंट
जेवियर्स
कॉलेज
से
ग्रेजुएशन
की
पढ़ाई
की
है।
प्रांजल
का
जीवन
कर
किसी
के
लिए
प्रेरणादायी
और
वो
एक
मिशाल
हैं।
14अक्‍टूबर
2019
को
का
वो
दिन
था
जब
प्रांजल
तिरुवंतपुरम
की
सब
कलेक्‍टर
की
जिम्‍मेदारी
संभाली
थी।

कौन है कांग्रेस नेता पवन खेड़ा? जानें PM मोदी के पिता के बारे में क्या कहा थाकौन
है
कांग्रेस
नेता
पवन
खेड़ा?
जानें
PM
मोदी
के
पिता
के
बारे
में
क्या
कहा
था



Source link