मॉरीशस के मंत्री ने संसद को बताया- अडानी ग्रुप पर लगे हिंडनबर्ग के आरोप निराधार, पढ़ें पूरी रिपोर्ट


Hindenburg's Allegations on Adani Group- India TV Paisa
Photo:FILE Gautam Adani

Hindenburg’s Allegations on Adani Group: अडानी समूह पर हिंडनबर्ग द्वारा लगाए गए आरोपों को मॉरीशस के वित्तीय सर्विस मंत्री ने झूठा बताया है। संसद में दिए अपने बयान में उन्होंने कहा है कि हिंडनबर्ग रिसर्च के आरोप निराधार है। उन्होंने यह भी कहा कि यह मॉरीशस ओईसीडी-अनिवार्य कर नियमों के अनुपालन में था। बता दें कि हिंडनबर्ग ने 24 जनवरी को आरोप लगाया था कि अरबपति गौतम अडानी ने अपनी भारतीय-सूचीबद्ध कंपनियों के शेयर की कीमतों में हेरफेर करने के लिए मॉरीशस स्थित शेल कंपनियों का इस्तेमाल किया है।

‘देश का कानून शेल की अनुमति नहीं देता’

मारीशस में जब एक संसद सदस्य (सांसद) ने एक लिखित नोटिस के माध्यम से अडानी समूह के लिए मनी लॉन्ड्रिंग और शेयर की कीमतों में हेरफेर के लिए मॉरीशस स्थित संस्थाओं के माध्यम के रूप में हिंडनबर्ग के आरोप के बारे में मंत्री से सवाल पूछा, तो मंत्री ने कहा कि देश का कानून शेल की अनुमति नहीं देता है। मैं सदन को सूचित करना चाहता हूं कि मॉरीशस में शेल कंपनियों की मौजूदगी के आरोप झूठे और निराधार हैं। वित्तीय सेवा आयोग द्वारा लाइसेंस प्राप्त सभी वैश्विक व्यापार कंपनियों को निरंतर आधार पर जरूरी आवश्यकताओं को पूरा करना है और आयोग द्वारा कड़ी निगरानी की जा रही है। उन्होंने कहा कि अब तक कोई उल्लंघन नहीं हुआ है जो पाया गया है। उन्होंने कहा कि वित्तीय सेवा आयोग ने हिंडनबर्ग रिपोर्ट पर ध्यान दिया है, लेकिन नियामक कानून की गोपनीयता धारा से बंधा है और विवरण का खुलासा नहीं कर सकता है।

वित्तीय सेवा आयोग न तो इनकार कर सकता है और न ही पुष्टि कर सकता है कि जांच की गई है और/या की जा रही है। इस प्रकार, वैश्विक व्यापार कंपनियों के बारे में जानकारी का खुलासा वित्तीय सेवा अधिनियम की धारा 83 का उल्लंघन होगा और हमारे अधिकार क्षेत्र की प्रतिष्ठा पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। एफएससी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी धनेश्वरनाथ विकास ठाकुर ने पहले कहा था कि मॉरीशस में अडानी समूह से संबंधित सभी संस्थाओं का प्रारंभिक मूल्यांकन नियमों का पालन नहीं करने वाला पाया गया था।

सेबी कर रहा आकलन

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) अडानी समूह और मॉरीशस की दो फर्मों ग्रेट इंटरनेशनल टस्कर फंड और आयुष्मान लिमिटेड के बीच संबंधों का आकलन कर रहा है, जिन्होंने अदानी समूह की प्रमुख कंपनी की हाल ही में रद्द की गई शेयर बिक्री में एंकर निवेशकों के रूप में भाग लिया था। हिंडनबर्ग द्वारा समूह के खिलाफ धोखाधड़ी और शेयर की कीमत में हेरफेर के आरोपों के बाद एक बिंदु पर समूह ने बाजार पूंजीकरण में 140 बिलियन अमेरीकी डालर खो दिया था। अदानी ग्रुप ने हालांकि सभी आरोपों से इनकार किया है।

Latest Business News





Source link