Maharani 3 Review: सियासत का गंदा खेल और हुमा कुरैशी की एक्टिंग, पढ़ें 'महारानी 3' का रिव्यू


वेब सीरीज: महारानी-3

कलाकार: हुमा कुरैशी, सोहम शाह, अमित सियाल, विनीत कुमार आदि

निर्देशक: सौरभ भावे

ओटीटी प्लेटफॉर्म: सोनी लिव

एपिसोड्स:

OTT Political Thriller Web Series: ‘महारानी 3’…सियासत के लिहाज से बिहार हमेशा से एक अहम सूबा रहा है और यहां होने वाली राजनीति अक्सर चर्चा का विषय बनी रही है। सोनी लिव की वेब सीरीज ‘महारानी 3’ की कहानी बिहार की राजनीति में दर्ज इन्हीं सियासी खेलों से प्रेरित है। तीसरे सीजन में मुख्य रूप शराब कांड को हाईलाइट किया गया है। चलिए आपको बताते हैं कि हुमा कुरैशी की ये वेब सीरीज कैसी है।

कुछ ऐसी है वेब सीरीज की कहानी

तीसरे सीजन की शुरुआत वहीं से होती है जहां दूसरा सीजन खत्म हुआ था। रानी भारती (हुमा कुरैशी) अपने पति और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री भीमा भारती (सोहम शाह) की हत्या के आरोप में जेल पहुंच गई हैं। वहीं नवीन कुमार (अमित सियाल) मुख्यमंत्री बन बिहार को ऊंचाइयों पर ले जाने का दावा कर रहे हैं। रानी भारती के साथी और राजनीति के पुराने खिलाड़ी सत्येंद्रनाथ मिश्रा उन्हें जेल से बाहर निकालने की बहुत कोशिश करते हैं। किंतु रानी भारती बेल पर जेल से बाहर आने से मना कर देती हैं। वह कहती हैं कि उन्हें जेल में ही रहकर अपनी पढ़ाई पूरी करनी है। हालांकि, रानी के ये कहते ही बाहरी दुनिया में कुछ ऐसा हो जाता है जिसकी किसी ने कल्पना भी न की हो। इस कांड की वजह से रानी भारती को मजबूरन बेल पर बाहर आना पड़ता है और रानी के बाहर कदम रखते ही बिहार की राजनीति का खेल पलट जाता है। आगे क्या होता है वो जानने के लिए आपको आठ एपिसोड की यह वेब सीरीज देखनी पड़ेगी।

लाजवाब है हर एक किरदार की एक्टिंग

रानी भारती के किरदार में हुमा कुरैशी ने आपने आपको जिस तरीके से ढाला है वह काबिले तारीफ है। साउथ दिल्ली की होने के बावजूद वह जिस तरीके से बिहारी भाषा बोलती हैं वह कमाल है। भीमा भारती बने सोहम शाह, नवीन कुमार बने अमित सियाल, गौरी शंकर पांडे बने विनीत कुमार, कावेरी श्रीधरन बनीं कानी कुश्रुति, मार्टिन इक्का बने दिब्येंदु भट्टाचार्य और कीर्ति सिंह बनीं अनुजा साठे ने बहुत ही उम्दा काम किया है।

मजेदार है पॉलिटिकल थ्रिलर सीरीज का क्लाइमेक्स

वेब सीरीज का डायरेक्शन अच्छा, सिनेमेटोग्राफी भी कमाल की है और बैकग्राउंड म्यूजिक भी मजेदार है। इसी वजह से वेब सीरीज का क्लाइमेक्स भी जोरदार है। पहले और दूसरे सीजन में रानी भारती के तेवर देखने के बाद ये तो यकीन रहता है कि वो चुप नहीं बैठेगी, लेकिन एक पांचवीं फेल ऐसा खेल खेल जाएगी ये किसी के दिमाग में नहीं आता है।

यहां खा गई मात

‘महारानी’ का तीसरा सीजन कहानी में मात खा गया। शुरुआत के चार एपिसोड में कहानी बहुत स्लो लगी। वहीं आखिरी के चार एपिसोड में ऐसा लगा कि कहानी को जल्दबाजी में बस निपटा दिया गया है। पहले और दूसरे सीजन में जो थ्रिल था तीसरे सीजन ने कहीं न कहीं उसकी भी कमी लगी। इसका एक कारण हुमा और सोहम को दिया गया कम स्क्रीन टाइम भी हो सकता है।

देखें या नहीं?

किरदारों की एक्टिंग और धमाकेदार क्लाइमेक्स देखने के लिए लोगों को ‘महारानी’ का तीसरा सीजन जरूर देखना चाहिए। हालांकि, अगर आप तीसरे सीजन से पहले और दूसरे सीजन जितना ड्रामा एक्सपेक्ट कर रहे हैं तो आपके हाथ सिर्फ निराशा के अलावा और कुछ नहीं लगेगा।



Source link