Divgi Torqtransfer IPO: होली पर बंपर कमाई का आज आखिरी मौका! जानिए क्या इशारा दे रहा है GMP

pic


नई दिल्ली: पुणे की ऑटो पार्ट्स बनाने वाली कंपनी दिवगी टॉर्कट्रांसफर सिस्टम्स (Divgi Torqtransfer Systems) के आईपीओ पर बोली लगाने का आज आखिरी दिन है। यह इश्यू बुधवार को सब्सक्रिप्शन के लिए खुला था। बोली के दूसरे दिन गुरुवार तक यह 38 फीसदी सब्सक्राइब हो चुका था। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) पर उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, आईपीओ के तहत की गई 38,41,800 शेयरों की पेशकश पर 14,49,000 शेयरों के लिए बोलियां मिलीं। रिटेल इनवेस्टर्स कैटगरी में इसे 1.56 गुना बोलियां मिली हैं। एनआईआई श्रेणी में यह 22 प्रतिशत और क्यूआईबी कैटगरी में छह प्रतिशत सब्सक्राइब हुआ है। आईपीओ के तहत 180 करोड़ रुपये तक के नए शेयर जारी किए हैं। इसके अलावा 39,34,243 शेयरों की बिक्री पेशकश (OFS) लाई गई है। आईपीओ के लिए मूल्य दायरा 560 से 590 रुपये प्रति शेयर तय किया गया है। यह आईपीओ पहले दिन यह 12 प्रतिशत सब्सक्राइब हुआ।

दिवगी टॉर्कट्रांसफर सिस्टम्स ने मंगलवार को एंकर निवेशकों से 185 करोड़ रुपये से अधिक राशि जुटाई थी। मूल्य दायरे के ऊपरी स्तर पर आईपीओ से 412 करोड़ रुपये से कुछ ज्यादा जुटाए जाने की उम्मीद है। कंपनी का शेयर 14 मार्च को बीएसई और एनएसई पर लिस्ट होंगे। ग्रे मार्केट में कंपनी का अनलिस्टेड शेयर 65 रुपये के प्रीमियम पर ट्रेड कर रहा है। यानी बाजार इसके 655 रुपये पर लिस्ट होने की उम्मीद कर रहा है। बाजार में हाल में आई गिरावट को देखते हुए दो कंपनियों ने अपने आईपीओ कैंसल कर दिए थे, लेकिन Divgi Torqtransfer ने प्राइमरी मार्केट में उतरने का फैसला किया था। खुदरा निवेशकों ने इसे हाथों-हाथ लिया है।

Navbharat TimesMultibagger Stocks: 6 महीने में 90 गुना बढ़ा, एक रिपोर्ट से 2 दिन में 20-20% डाउन, इस शेयर की कहानी बदल देगी आपका नजरिया

टाटा-महिंद्रा को सप्लाई

इनवेस्टर्स इसमें मिनिमम 25 शेयरों के लॉट के लिए बोली लगा सकते हैं। इसमें इन्फोसिस के को-फाउंडर नंदन निलेकणी के पारिवारिक ट्रस्ट की 8.7 फीसदी हिस्सेदारी है। निलेकणी का फैमिली ट्रस्ट इस आईपीओ के जरिए कंपनी के 14.4 लाख शेयर बेच रहा है। इस आईपीओ के जरिए कुछ और शेयरहोल्डर्स भी कंपनी में अपनी हिस्सेदारी बेच रहे हैं। इनमें ओमान इंडिया जॉइंट इनवेस्टमेंट फंड टू, प्रमोटर्स और अन्य शेयरहोल्डर्स शामिल हैं। कंपनी इस आईपीओ के जरिए आने वाली रकम का इस्तेमाल इक्विपमेंट और मशीनरी खरीदने के लिए करेगी।

सितंबर, 2022 तिमाही में Divgi का नेट प्रॉफिट 26 करोड़ रुपये रहा था जबकि कंपनी की कुल इनकम 137 करोड़ रुपये रही। फिस्कल ईयर 2022 के लिए कंपनी का नेट प्रॉफिट 46 करोड़ रुपये रहा जबकि टोटल इनकम 242 करोड़ रुपये रही। यह भारत में टॉर्क कॉपलर्स बनाने वाली एकमात्र कंपनी है। इसके कस्टमर्स में BorgWarner, Tata Motors और Mahindra & Mahindra शामिल है। आईपीओ खुलने से पहले कंपनी ने एंकर निवेशकों से 185.45 करोड़ रुपये जुटाए।



Source link