अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप पर बरसे बाइडेन, कहा-लोकतंत्र को खतरे में डाला – India TV Hindi

untitled design 2024 03 08t185822 1709904518


अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप और राष्ट्रपति जो बाइडेन।- India TV Hindi

Image Source : AP
अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप और राष्ट्रपति जो बाइडेन।

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने अपने प्रतिद्वंद्वी और पूर्ववर्ती डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ तीखा हमला किया है। उन्होंने अपने  दूसरे कार्यकाल की मांग करते हुए  कहा कि ट्रंप पर देश के भीतर और विश्व स्तर पर लोकतंत्र को खतरे में डालने, रूस के सामने घुटने टेकने और “नाराजगी, बदला और प्रतिशोध” का समर्थन करने का आरोप लगाया है। अमेरिकी कांग्रेस के संयुक्त सत्र में अपने अंतिम ‘स्टेट ऑफ द यूनियन’ संबोधन में बाइडन ने ट्रम्प का नाम लिए बिना, उनका उल्लेख अपने पूर्ववर्ती के रूप में किया। बाइडन ने एक घंटे से अधिक समय तक चले अपने भाषण में 13 बार ट्रम्प का उल्लेख किया।

सुपर ट्यूज़डे के बाद, नवंबर 2024 के राष्ट्रपति चुनावों में बाइडन और ट्रम्प के बीच दोबारा मुकाबले का रास्ता साफ हो गया है। इक्यासी वर्षीय बाइडन अमेरिका के सबसे उम्रदराज़ राष्ट्रपति हैं। उन्होंने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के संबंध में हालिया टिप्पणी से लेकर आव्रजन, 6 जनवरी के विद्रोह, गर्भपात और बंदूक नियंत्रण जैसे कई मुद्दों पर 77 वर्षीय ट्रम्प की आलोचना की। डेमोक्रेटिक पार्टी के नेता बाइडन ने कहा, “एक राष्ट्रपति, मेरे पूर्ववर्ती, जो सबसे बुनियादी कर्तव्य में विफल रहे। किसी भी राष्ट्रपति का अमेरिकी लोगों की देखभाल करने का कर्तव्य है। यह अक्षम्य है।’’ उन्होंने कहा, “अब, मेरे पूर्ववर्ती, एक पूर्व रिपब्लिकन राष्ट्रपति, पुतिन से कहते हैं, “जो कुछ भी आप करना चाहते हैं, वह करें”। दरअसल एक पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ने एक रूसी नेता के आगे झुकते हुए ऐसा कहा था। यह अपमानजनक है, यह खतरनाक है। यह अस्वीकार्य है।

ट्रंप ने रूस को लेकर कही थी ये बात

ट्रम्प ने हाल ही में कहा था कि वह रूस को किसी भी नाटो सदस्य देश के खिलाफ “जो कुछ भी वे चाहते हैं” करने के लिए प्रोत्साहित करेंगे, जो रक्षा पर खर्च संबंधी दिशानिर्देशों को पूरा नहीं करता है। एक चौंकाने वाली स्वीकारोक्ति में कि ट्रम्प ने कहा था कि अगर वह दोबारा राष्ट्रपति बनते हैं, तो गठबंधन के सामूहिक रक्षा संबंधी प्रावधान का पालन नहीं करेंगे। बाइडन ने कहा कि वह देश के इतिहास में सबसे कठिन दौर में से एक से अमेरिका को बाहर निकालने के दृढ़ संकल्प के साथ सत्ता में आए थे। उन्होंने कहा, “राष्ट्रपति लिंकन के समय से और गृह युद्ध के बाद से यहां घरेलू स्तर पर स्वतंत्रता और लोकतंत्र पर वैसा हमला नहीं हुआ, जैसा कि आज हो रहा है। जो बात हमारे इस दौर को दुर्लभ बनाती है, वह यह है कि एक ही समय में, देश और विदेश दोनों जगह स्वतंत्रता और लोकतंत्र पर हमला हो रहा है।

पुतिन पर बाइडेन ने लगाया अराजकता का आरोप

बाइडेन ने कहा कि विदेश में, रूस के पुतिन आगे बढ़ रहे हैं, यूक्रेन पर हमला कर रहे हैं और पूरे यूरोप और उसके बाहर अराजकता फैला रहे हैं।’’ उन्होंने रूस को रोकने के लिए यूक्रेन को हथियार उपलब्ध कराने के लिए अमेरिकी कांग्रेस से समर्थन भी मांगा। बाइडन ने कहा, “अगर इस कमरे में कोई सोचता है कि पुतिन यूक्रेन में ही रुक जाएंगे, तो मैं आपको बताना चाहता हूं कि वह ऐसा नहीं करेंगे। लेकिन यूक्रेन पुतिन को रोक सकता है, अगर हम यूक्रेन के साथ खड़े हों और उसे अपनी रक्षा के लिए आवश्यक हथियार उपलब्ध कराएं। बाइडन ने कहा, ”यूक्रेन बस यही कह रहा है।” बाइडन ने कहा कि वे (यूक्रेन) अमेरिकी सैनिकों की मांग नहीं कर रहे हैं।  (भाषा)

 

 

Latest World News





Source link